Saturday, 6 August 2022

Poem On Raksha Bandhan in hindi रक्षाबंधन पर गीत,कविता,शायरी / भाई बहिन का प्यार

Poem On Raksha Bandhan in hindi रक्षाबंधन पर गीत,कविता,शायरी / भाई बहिन का प्यार

Poem On Raksha Bandhan in hindi रक्षाबंधन पर गीत,कविता,शायरी / भाई बहिन का प्यार

नमस्कार दोस्तों  आज हम रक्षाबंधन पर कविता गीत,कविता लेकर आए हैं Poem On Raksha Bandhan In Hindi सभी भाइयों और बहिनों को रक्षाबंधन अतुलनीय प्रेम की अमर कहानी गीत के रूप में हम लाए हैं, हर वर्ष श्रावण मास में राखी का त्यौहार देशभर में मनाया जाएगा, जहाँ बहिन भाई को रक्षासूत्र बांधती है वहीं भाई भी बहिन की रक्षा की सौगन्ध लेता है “Raksha Bandhan 2022 Poem Hindi” के अवसर पर अपनी बहिन या अपने भाई को भेजने के लिए एक छोटी सी हिंदी कविता गीत हमने तैयार किया है आशा है आपको पसंद आएगी...


भाई बहन का प्यार है ये रिश्ता मधुर सुहाना ।
छोड के सारे बंधन को तुम दिल से इसे निभाना ।
राखी के प्यारे बन्धन को तुम जीवन भर निभाना ।
भाई बहन.................................... सुहाना ।।
धागों का कंगना हो, मस्तक तिलक सजे हर पल ।
रक्षा कवच बना दूं ,मेरा भाई सलामत रहे जग मे ।
राखी के शुभ अवसर पर है बहिन दुवाएं लाई ।।
भाई बहन................................ सुहाना  ।।
बहन न मांगे हीरे मोती, ना मांगे शोहरत तुमसे ।
रहे सलामत तुम जग में, हर चौखट दिए जलाती है ।
रूठे भाई बहन से जब भी,राखी याद दिलाए ।।
भाई बहन................................ सुहाना ।।
घर भी स्वर्ग लगे जहाँ बहिन भाई का जोडी हो,
चांद चांदनी से रूठे ना रूठे भाई बहन से ।
दुनियां के सब रिश्तों में है,अमर पवित्र पुराना ।।
भाई बहन.................................. सुहाना ।।
बेटी होती नहीं है पराई ये बात बताना मां को तुम ।
रूपयां पैंसा न दहेज हो,तुम देना मुझको स्वाभिमान ।
परम्पराओं कुप्रथाओं से,भैया तुम मुझको बचाना ।
भाई बहिन .............................. सुहाना ।।

Saturday, 30 July 2022

poem on martyrs of india/आजादी के अमृत महोत्सव पर कविता

poem on martyrs of india/आजादी के अमृत महोत्सव पर कविता
Ajadi ka amrit mahotsav
Ajadi ka amrit mahotsav

सलाम है मेरे इस वतन को पियारे,
जिसने जगत में दियी साख हमको ।
न मिट पाये गौरव भारत का जगत में,
ये भारत मेरी जान,दिल है हमारा ।।
ये भारत................................ हमारा ।।
न चाहूँ मैं शानो-शौकत इस वतन में, 
न रूपया न गाडी न शोहरत मैं चाहूँ ।
मैं चाहूँ बडे गौरव मेरी मां जगत में, 
कतरा-कतरा लहू का वतन पर लुटा दूं ।
ये भारत................................ हमारा ।।
नमन है उन गुमनाम शहीदों को जिसने,
दिया मेरे भारत को शहादत है अपनी ।
नमन है उन माओं, बहन बीबियों को,
जिसने वतन को दिया अपना सुख है ।
ये भारत.................................हमारा ।।
नमन है मेरे वेद शास्त्रों को जिसने,
दी हमने जहाँ को संस्कृति सभ्यता है ।
नमन है उन संभ्रांत बीरागनाओं को,
मिट गया खुद का सर्वस्व हुए वो अमर है ।
ये भारत...................................हमारा ।।
नमन है उस माता पत्नी बेटी बहन को,
जिनके सपनों का राही तिरंगे से लिपट आया ।
नमन है उस सुहागिन बहन वीरवधू को,
जिसने लाखों सुहागों पे किया खुद को समर्पित ।
ये भारत...........................हमारा ।।

 अन्य सम्बन्धित काव्य साहित्य (कवितायें)-----

Saturday, 16 July 2022

Meri Pahchan सबसे जुदा है अपनी अदा पर कविता

 Meri Pahchan सबसे जुदा है अपनी अदा पर कविता
Meri Pahchan

सबसे जुदा है अपनी अदा,
मैं हूं अपने अल्फाजों पर फिदा ।
मन में है प्रेम का अपार भण्डार भरा,
चिंतित रहता हूँ करने को नया सृजन ।
उडान भरती है उम्मीदें हर पल मेरी,
लेके इस धरा का अमृत एहसास लिए ।
जिद्दी मगर शान्त और स्वाभिमानी हूँ मैं,
संस्कार व संस्कृति की पूरी किताब हूँ मैं ।
सरस्वती का उपासक हूँ वाणी में तेज है,
हुनर के बल पर बाकी सब निस्तेज है ।
करता नहीं हूं मैं कभी खुद पर गुरूर,
मैं रहता हरपल कल्पनाओं में मगरूर ।
लफ्जों को मैं देता हूँ कविताओं का रूप, 
सम्मान ही नहीं अपमान को भी करता हूँ मंजूर ।
देता हूँ तवज्जू धरा के हर प्राणी को मैं,
थोड़ा शख्त मगर खुली किताब हूँ मैं ।
कहते है लोग तुम क्यों हो शान्त इतने,
चेहरे पर मुस्कान का दामन लिए फिरते हो ।
आदत नहीं है मुझे नकाब पहनने की,
मैं हरपल समुन्दर में पतवार लिए फिरता हूँ ।
मिल जाये सफर में कोई  जख्म खाए हुए,
उसमें अपनी कविताओं उम्मीद जगाए फिरता हूँ। 
सबसे जुदा है अपनी अदा,
मैं हूं अपने अल्फाजों पर फिदा ।।

 

 अन्य सम्बन्धित काव्य साहित्य (कवितायें)-----

Wednesday, 22 June 2022

Yoga Poem in hindi योगा का जीवन में महत्व

Yoga Poem in hindi योगा का जीवन में महत्व
Yoga Poem

योगा का जीवन में इतना महत्व ।
जितनी तन में है सांसों की डोरी ।
योग पहुंचाएं स्वर्ण सुमेरू,बिना योग रोगों का डेरा ।
सुडौल शरीर बत्तीसी काया,बस में रहती उसकी माया ।
स्वस्थ शरीर पाता मानव जो योग को सखा बनाता है ।
अनिंद्रा,आलस,त्रिदोष मिटाता जो नित्य योग अपनावे ।
अस्सी में भी दौड लगाएं पाचन करे न बाधा ।
जिसने योग का मोल न समझा उसका जीवन आधा ।
कर्म इन्द्रियां ज्ञान इन्द्रियों का होता विकास गती से है ।
शुद्ध विचारों का वेग बडता होती जग प्रसिद्धि मती से है ।
अनुपम छवि दिखाते वेद,विश्व प्रसिद्धि होता भारत ।
लोगों ने माना संजीवनी इसको,इसीलिए सब करते योग ।
योगा का जीवन में इतना महत्व ।
जितनी तन में है सांसों की डोरी ।

Friday, 17 June 2022

Happy Fathers day poem in hindi पिता के महत्व पर दिल छूने वाली शायरी कविता

पिता दिवस पर कविता लेकर आज हम आए है यह रिश्ता कुछ खास महत्व रखता है, बाप बेटे के इसी रिश्ते पर पूरा विश्व फादर्स डे (International Fathers Day) मनाते है। इस मौके पर सभी को पिता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं पिता दिवस पर कोट्स (Fathers day Quotes), पिता दिवस की(Fathers Day poe Shayari), पिता दिवस की शायरियां (Fathers Day Shayari), Fathers Day Hindi Quotes)  इस खास मौके पर हम लाए हैं पिता दिवस (Father's Day) पर सबसे अच्छी कविता लेकर आए है जिसे आप अपने पिता को भेजकर उनके प्रति सम्मान व्यक्त कर सकते हैं। (Best Fathers Day Poem In Hindi), इन्हें आप अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को ह्वाट्सएप्प (Fathers day Whatsapp Status), लगा सकते है।

Happy Fathers day poem in hindi पिता के महत्व पर दिल छूने वाली शायरी कविता
Happy Fathers day

मेरे पिता तुम प्रतिमा हो ईश्वर की ।
जो हर अभिलाषा करते पूरी हो ।
जिनके संघर्षों से सजते सपनें मेरे है ।
जिनसे ही मिली मुझको शक्ति है ।
बिन मांगे ही तुम देते सबकुछ हो ।
तुम वास्तव में  ईश्वर की प्रतिमा हो ।
मेरी हंसी में आंसू बहाए तुमने है ।
मेरी खुशी में दुख झेले तुमने है ।
तुमने काटी कितनी अंधयारी रातें है ।
जब खुशी दिखी जीवन में  मेरी है ।
तुमने सौदा अपनी खुशियों का किया है ।
तुम हो तो सब बाजार अपना है ।
तुम हो तो मंजिल पाना आसान लगता है ।
पिता जमीर है! जागीर है! पहचान है! उम्मीद है ।
पिता बरगद की छांव है,समुन्दर जैसा हृदय है ।
तुम मेरे लिए हर पल चिंतित रहते हो ।
दुनियां की हर खुशी से दामन मेरा भरते हो ।
मुश्किल राहों को भी आसान बना देते हो ।
पिता की दुवाओं से काल भी हार जाता है ।
मेरे पिता तुम वास्तव में ईश्वर की प्रतिमा हो ।

अन्य सम्बन्धित काव्य साहित्य (कवितायें)-----

Khamoshi Par Kavita तुम कहो तो सही / खमोशी पर कविता-शायरी

Khamoshi Par Kavita तुम कहो तो सही / खमोशी पर कविता-शायरी

Khamoshi Par Kavita तुम कहो तो सही / खमोशी पर कविता-शायरी

तुम कहो तो सही !
क्यों खामोश होकर समा बांध रही हो ।
मानों प्रकृति में सबकुछ स्तब्ध हो गये है।
नदी, झरने, बाग-बगीचे मानो,
किसी असहाय वेदना से जूझ रहे है।
पक्षियों की चहचहाट मानों थम सी गयी है ।
आज जुगल हंसों के प्रेम में अनुराग भर गया हो ।
तुम्हारी खामोशी से बसंत भी पतझड़ लगता है ।
तुम कहो तो सही !
क्यों वेदना हृदय की तुम समझ नहीं पाती हो।
तुम्हारी मुस्कान हजारों दर्द भुला देती है ।
तुम्हारे गूंजने से शमा रौशन हो जाता है।
प्रकृति में मानों सुरों का वेग बडता है।
मेरे मन के छंद तुम्हारे हृदय को स्पर्श करता है।
तुम्हारे कहने से सभी शिकवे - गिले दूर होते है।
तुम कहो तो सही !
तुम्हारी खामोशी मन कयी सवाल खडे करती है ।
अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां
👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 


Wednesday, 8 June 2022

Krishna par Bhajan Kavita कृष्ण भक्तिरस अनमोल भजन

Krishna par Bhajan Kavita कृष्ण भक्तिरस अनमोल भजन
Krishna par Bhajan

दोस्तों आज हम कृष्ण भक्तों के लिए कृष्ण जी का सबसे सुन्दर भजन लेके आए है Krishna Par Kavita कृष्णा पर कविता – यहाँ कान्हा पर बेहतरीन नई कविता (भजन/गीत) लेकर आए है। जो आपको कृष्ण प्रेम का रसपान कराएगी,Krishna bhakti bhajan in hindi 

तू आधार है तू ही जीवन,तुम बिन कोई न मेरा,
राधा कृष्ण कन्हैया ......
ना मै राधा नाहि यशोदा, ना मीरा ना गोपी,
अरज सुनो तुम मेरी....
दुनियां ने दुख दर्द दिये है,तुमसे प्रीत लगाई,
वो श्याम सलोने मेरे......
ना धन दौलत, ना शोहरत हो,ना माया बन्धन हो,
तुम्हीं से प्रीत लगन हो.......
तुम बिन कर्म-धर्म ना होवे,पुण्य-तीर्थ न होवे,
घनश्याम प्रीतम मेरे........
गोपियों संघ रास रचाया,ग्वालों संघ खेली होली,
फिर भी मिलन है अधूरा.....
वृंदावन के बाग-बागीचे,नदियाँ झील सरोवर,
तुम बिन है सब अधूरे.......
वंशी की धुन पर गोपिनाचे, सुध-बुध खोवे अपना,
क्यों दुख देवे इतना.....
देखी सुदामा भक्ति को तब,नैनन अश्रु ढरके,
अंखियां पल-पल बरसे.....
तारा जग संसार को तुमने,तारा त्रिभुवन सारा,
फिर क्यूँ मन है आवारा.....
तू आधार है तू ही जीवन,तुम बिन कोई न मेरा,
वो राधा कृष्ण कन्हैया .......

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे