Tuesday, 19 October 2021

Vastu tips for kitchen वास्तुशास्त्र के अनुसार ऐसे करें रसोई-घर का निर्माण हर प्रकार की बाधाओ,संकटों से मिलेगी मुक्ति छाएगी खुशियाँ घर में

Vastu tips for kitchen वास्तुशास्त्र के अनुसार ऐसे करें रसोई-घर का निर्माण हर प्रकार की बाधाओ,संकटों से मिलेगी मुक्ति छाएगी खुशियाँ घर में

 वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में रसोई घर की मुख्य भूमिका होती है,क्योंकि यहाँ मां अन्नपूर्णा का स्थान माना जाता है और जैसा हम अन्न  खाते है वैसा ही मन्न होता है, इसीलिए रसोईघर में पकाया गया खाना आपको स्वस्थ्य, तनावमुक्त रखता है,तथा अच्छे विचारों का प्रभाव बढता है। लेकिन अगर यही रसोईघर गलत दिशा में हो अशुद्ध हो तो सबसे पहले घर की महिलाओं पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।क्योंकि वहीं इसकी सबसे बडी हकदार होती है अन्य सदस्यों को भी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है,कामयाबी के रास्ते अवरूद्ध हो सकते है,रुकावटें आ सकती है। इसीलिए वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में रसोईघर का निर्माण आग्नेय कोण में किया जाना चाहिए। यदि आग्नेय कोण में रसोईघर बनाना सम्भव न हो तो पश्चिम दिशा में भी रसोई बना सकते है।

Vastu tips for kitchen वास्तुशास्त्र के अनुसार ऐसे करें रसोई-घर का निर्माण हर प्रकार की बाधाओ,संकटों से मिलेगी मुक्ति छाएगी खुशियाँ घर में 

रसोई घर से ही सभी प्रकार के दोषों से मुक्ति पायी जा सकती है और यही वह स्थान है जो हमारे भविष्य का निर्माण भी करता है आइए जानते है रसोई घर के कुछ महत्वपूर्ण नियम व उपाय जिससे जिंदगी बदल जाए --

1- रसोईघर में चूल्हा केवल आग्नेय कोण में ही रखा जाना चाहिए। ईशान कोण में चूल्हे का रखा जाना वर्जित माना जाता है। ऐसा करने से अर्थ हानी होती हैऔर वंश वृद्धि भी रुक जाती है।

2- आग्नेय कोण में एक बल्व जलाकर रखें जिस पर लाल रंग की पन्नी चढी हो । यदि चूल्हा फर्श पर रखा है ,तो जल पात्र चूल्हे के पास रखें। 

3- उत्तर दिशा में चूल्हा रखा जाना वर्जित है ऐसा करने से अर्थहानी यानी आर्थिक संकट आता है।

4- अन्न आदि के डिब्बे उत्तर पश्चिम यानी वायव्य कोण में रखें जाने चाहिए। लेकिन ध्यान रहें कि डिब्बा पूरी तरह खाली न हो। डिब्बों में कुछ न कुछ होना ही चाहिए ।

5- रसोईघर में पीने का पानी ईशान कोण में या उत्तर दिशा में रखा जाना चाहिए। 

6- खाना बनाते समय खाना बनाने वाले का मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। 

7- रसोईघर में गैस बर्नर, चूल्हा या हीटर आदि दीवार से लगभग 3 इंच हटकर होना चाहिए। 

8- रसोईघर में खाली एवम् अतिरिक्त गैस सिलेंडर नैर्ऋत्यकोण की ओर रखे जाने चाहिए। 

9- रसोईघर घर की दीवारों का रंग पीला, नारंगी अथवा गेरुआं होना चाहिए। 

10- रसोईघर में टूटे फूटे बर्तन व झाडू नहीं रखना चाहिए। 

11- रसोईघर में एग्जाॅस्ट फैन जरूर लगाना चाहिए।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉जानिए किस दिशा में कौन से सामान रखने से होगी तरक्की 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 वास्तुशास्त्र के अनुसार करे घर में मंदिर स्थापना बरसेगी खुशियाँ 
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 जानिए राशी के भवन निर्माण का सहि मुहूर्त कब है
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 घर के मुख्य द्वार पर जरूर करें ये काम खुशियाँ दस्तख देगी खुद घर में 
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा


Khidki ka vastu shastr in hindi वास्तुशास्त्र के अनुसार खिड़कियों का विश्लेषण रखें इन बातों का ध्यान देंगें शुभ संकेत व धनवृद्धि

Khidki ka vastu shastr in hindi वास्तुशास्त्र के अनुसार खिड़कियों का विश्लेषण रखें इन बातों का ध्यान देंगें शुभ संकेत व धनवृद्धि

नमस्कार दोस्तों वास्तुशास्त्र के अनुसार घरों में खिडकी का बडा महत्व माना गया है,क्योंकि खिड़कियों से समही सकारात्मक व नकारात्मक ऊर्जा घरों में प्रवेश करती है। इसीलिए घरों में खिडकी कितनी होनी चाहिए?खिडकियां कहाँ होनी चाहिए ताकी वह शुभ प्रभाव डाले।घरों में स्थित खिड़कियों को केवल रोशनी और हवा आने का माध्यम न समझें,बल्कि खिडकियां इसके साथ-साथ जीवन में सुख-समृद्धि भी लाती है।परिवार की तरक्की व धन वृद्धि भी लेकर आती है। वास्तुविज्ञान के अनुसार भवन में यदि खिड़कियों की संख्या एवं दिशा सही हो तो,यह जीवन में रोशनी ला सकती हैं,कयी लोग बिना परामर्श या बिना वास्तुशास्त्र जाने घर का निर्माण करते है और फिर पूरे जीवन परेशान रहते है। घर बनवाते समय इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि खिड़कियों की संख्या सम होनी चाहिए- जैसे 2 ,4 ,6 ,8 ,10 इत्यादि  विषम संख्या में खिड़कियों का होना शुभ नहीं माना गया है।यह घर में वास्तुदोष उत्पन्न करता है।

Khidki ka vastu shastr in hindi वास्तुशास्त्र के अनुसार खिड़कियों का विश्लेषण रखें इन बातों का ध्यान देंगें शुभ संकेत व धनवृद्धि 

आप अपने घर में शुभ प्रभाव चाहते हैं तो खिडकियों को हमेशा साफ-सुथरा रखें, और खासकर आप नीचे दी गयी बातों का ध्यान रखें। 

1- खिडकियां द्वार के समक्ष होनी चाहिए, जिससे चुम्बकीय चक्र पूरा हो सके। ऐसा करने से घर में सुख समृद्धि व शान्ति आती है।

2- पश्चिम, पूर्वी और उत्तरी दीवारों पर ही खिड़कियों का निर्माण शुभ माना जाता है।

3- उत्तर दिशा में अधिक खिडकियां होने से परिवार में धन-धान्य की वृद्धि करती है। उस घर में हमेशा कुबेर व मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

4- घर में खिडकियां हमेशा सम संख्या यानी 1,2,4,6,8,10 ही होनी चाहिए विषम संख्या में नहीं और ध्यान रहें खिडकियां हमेशा अन्दर की ओर ही खुले।

5- पूर्व दिशा में खिडकी परिवार के सदस्यों को यश प्राप्ति तरक्की देती है। अतः यहीं से सूर्योदय की किरणें घर में प्रवेश करती है। इसीलिए इस दिशा में खिडकी बहुत शुभ मानी जाती है ।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉जानिए किस दिशा में कौन से सामान रखने से होगी तरक्की 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 वास्तुशास्त्र के अनुसार करे घर में मंदिर स्थापना बरसेगी खुशियाँ 
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 जानिए राशी के भवन निर्माण का सहि मुहूर्त कब है
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 घर के मुख्य द्वार पर जरूर करें ये काम खुशियाँ दस्तख देगी खुद घर में 
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा

Monday, 18 October 2021

Vastu tips for Home जानिए किस दिशा में कौन सा सामान रखने से होगी तरक्की व आएगी घर में सुख समृद्धि। भवन पर दिशाओं का प्रभाव एवं सम्बन्ध

नमस्कार दोस्तों हमारे भारत वर्ष में वास्तुशास्त्र का बडा महत्व माना गया है और अगर घर वास्तु शास्त्र के अनुसार हो तो फिर जीवन में कोई परेशानी नहीं रहती वह घर मंदिर बन जाता है।अक्सर इस संबंध में सभी लोग जानता चाहते हैं कि वास्तु अनुसार घर के भीतर 8 दिशाओं में से किस दिशा में कौन सा सामान रखना चाहिए? क्योंकि हर किसी सामान वस्तु को रखने की एक निश्चित दिशा व जगय होती है तभी उसका शुभ प्रभाव पढता है अन्यथा घर संकटों से घिर जाता है। कहीं ऐसा तो नहीं है कि आपने भी कोई ऐसी वस्तु गलत जगह या दिशा में रखी हो जिसके चलते नुकसान हो रहा हो?आपके बनते कार्य बिगडरहे है,आपको हम यह बताएंगे की 8 दिशाओं में आपको कौन सी वस्तु कहाँ रखनी है,लेकिन उससे पहले ये जान लेते है कि वे आठ दिशाएं कौन सी हैं- उत्तर, ईशान, पूर्व, आग्नेय, दक्षिण, नैऋत्य, पश्‍चिम और वायव्य। आप इन दिशाओं को पहचान कर ही घर की सजावट करे और सामान को यथा स्थान पर रखें।

Vastu tips for Home जानिए किस दिशा में कौन सा सामान रखने से होगी तरक्की व आएगी घर में सुख समृद्धि। भवन पर दिशाओं का प्रभाव एवं सम्बन्ध 

वास्तु शास्त्र के अनुसार गृह निर्माण उन्ही दिशाओं व उप दिशाओं में के अनुसार व अनुकूल कराना चाहिए अर्थात जैसे -

पूर्व दिशा में लक्ष्मी का घर ।

पश्चिम दिशा में रसोई घर ।

उत्तर दिशा में स्नानघर व द्रव्य पदार्थघर ।

दक्षिण दिशा में शयनकक्ष ।

आग्नेय कोण में रसोईघर ।

वायव्य कोण में तिजोरी, धनगृह ।

ईशान कोण में देवालय,मंदिर  ।

नैर्ऋच्य कोण में शास्त्रादि, पुस्तक, स्टडी रूम ।

पूर्व और आग्नेय कोण के बीच में खिलौने दूध दही रखने का स्थान। 

दक्षिण और आग्नेय कोण में घी रखने का स्थान। 

आदि कुल मिलाकर के भवन निर्माण के 16 विधान है लेकिन अधिकतर लोग किराये के मकान पर रहते है जहाँ ये सब कर पाना सम्भव नहीं हो पाता है। लेकिन यह भी सत्य है कि वास्तु शास्त्र के अनुसार बने घर में जो भी रहता है उसका जीवन सुखी सम्पन्नता से व्यतीत होता है। आइये आप भी अपने सपनों के घर को इसी वास्तुशास्त्र के अनुसार ही बनाए --

वास्तुशास्त्र के अनुसार भवन के विभिन्न कक्षों की स्तिथि इन दिशाओं में होनी चाहिए 

* उत्तर-पूर्व दिशा में   -   बालकनी

* पूर्व, दक्षिण पूर्व,उत्तर-पश्चिम दिशा में  -   स्नानघर या शयनकक्ष 

* उत्तर पूर्व दिशा में    -  तलघर 

* उत्तर, उत्तर-पूर्व दिशा में  -  दरवाजे 

* उत्तर-पश्चिम दिशा में   -  बालकक्ष या बच्चों का कमरा 

* उत्तर-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व दिशा में   -  ड्राइंग रूम 

* उत्तर-पश्चिम दिशा में   -  मनोरंजन कक्ष 

* दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व दिशा में   -  ड्रेसिंग रूम

* उत्तर-पश्चिम दिशा में   -  गैराज

* दक्षिण-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम दिशा में  -  भोजन कक्ष

* उत्तर-पश्चिम दिशा में   -   भण्डार गृह

* दक्षिण-पूर्व दिशा में   -  खुला स्थान 

* उत्तर-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व दिशा में   -  अतिथि गृह

* दक्षिण-पूर्व, पश्चिम दिशा में   -  रसोईघर 

* दक्षिण-पूर्व दिशा में   -  बिजली के उपकरण

* दक्षिण-पूर्व, उत्तर-पश्चिम दिशा में   -  सर्वेन्ट क्वार्टर 

* दक्षिण-पश्चिम दिशा मे  -  सीढियां 

* उत्तर पूर्व दिशा में    -   गैराज

* उत्तर दिशा में    -   तिजोरी

* उत्तर, पूर्व,पश्चिम दिशा में   -  अध्ययन कक्ष

* उत्तर-पूर्व में    -  पूजाघर, मंदिर

* उत्तर-पूर्व, दक्षिण और पश्चिम दिशा में   -  पेड-पौधे,  बगीचा

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 

Sunday, 17 October 2021

शरद पूर्णिमा के दिन करें ये उपाय माँ लक्ष्मी प्रसन्न होकर करेगी धन वर्षा और परिवार रहेगा स्वस्थ Sharad Purnima ke Upay in hindi

शरद पूर्णिमा के दिन करें ये उपाय माँ लक्ष्मी प्रसन्न होकर करेगी धन वर्षा और परिवार रहेगा स्वस्थ Sharad Purnima ke Upay in hindi

नमस्कार दोस्तों शरद पूर्णिमा का बढा महत्व माना गया है। यह कार्तिक मास में आता है। इसे शारदीय पूर्णिमा भी कहते है।शरद पूर्णिमा की रात कोई मामूली चांदनी रात नहीं होती,बल्कि इस चांद में अनेकों शक्तियां मौजूद होती है। बरसात के बाद धुले आसमान में चंदा की चांदनी देखते ही बनती है,इसकी सुन्दरता देखने लायक बनती है,जिससे प्रसन्न होकर माता लक्ष्‍मी भी इस रात को धन की वर्षा करने से खुद को रोक नहीं पातीं।इसीलिए अगर आप इस शरद पूर्णिमा का पूजन अर्चन करते है तो आपको अनेकों फायदे व लाभ होने वाले है।

  शरद पूर्णिमा के दिन करें ये उपाय माँ लक्ष्मी प्रसन्न होकर करेगी धन वर्षा और परिवार रहेगा स्वस्थ Sharad Purnima ke Upay in hindi

शास्त्रों के अनुसार शरद पूर्णिमा को मां लक्ष्‍मी के जन्‍मदिन के रूप में मनाया जाता है।इस दिन माता लक्ष्मी प्रसन्न होकर अपने भक्तों को आशीर्वाद प्रदान करती है।और यह भी कहा जाता है कि दीपावली से पहले मां लक्ष्‍मी का स्‍वागत करने का यह विशेष अवसर होता है।तभी लक्ष्मी पूजन मे आपके घर आकर खुशियाँ बिखेर सकती है। इसीलिए अगर आप इस शरद पूर्णिमा को ये उपाय करते है तो आपके जीवन में तथा घर परिवार में सुख समृद्धि आएगी और कभी भी धन की व स्वास्थ की कमीं नही होगी।

1- शरद पूर्णिमा के दिन अगर आप चांदनी रात में चन्द्रमा की शीतलता ग्रहण करती हो तो इससे आपका शरीर स्वस्थ होगा रोग-प्रतिरोध क्षमता बढेगी और सांस सम्बन्धित परेशानियां दूर होगी।

2- शरद पूर्णिमा के दिन श्रीकृष्ण की पूजा-अर्चना करने से भी कयी गुना फल प्राप्त होता है,और अगर आप श्रद्धा के साथ मोर पंख व बांसुरी एक साथ बांधकर कृष्ण को समर्पित करते हो तो कृष्ण बहुत प्रसन्न होते है।

3- शरद पूर्णिमा के दिन आपको 4 लाॅग लेनी है और लाल कपडा लेना है। फिर पूजा स्थल पर घी का दीपक जलाकर 2 लाॅग उस दीपक में डालनी है और 2 लाॅग को लक्ष्मी का स्वरूप मानकर अपनी तिजोरी में रखना चाहिए। 

4- शरद पूर्णिमा के दिन रात की चांवल की खीर बनाकर उसे साफ  हल्के कपड़े से ढककर चांद के नीचे रखना चाहिए और सुबह उठकर पूरे परिवार को खिला देने से आरोग्यता बडती है और सुन्दर काया व रूप भी निखरता है।

5- शरद पूर्णिमा के दिन माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आप सोलह श्रृंगार चढाएं, माता का श्रृंगार चढाएं, और विशेष कर माता को गुलाबी रंग के फूल व इत्र, द्रव्य चढाएं। 

आप इन मंत्रों का जाप करके भी माता लक्ष्मी को प्रसन्न कर सकते हो --

1- महालक्ष्मी मंत्र जाप

(ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महालक्ष्मयै नमः) ||

2- चन्द्रमा का मंत्र जाप 

दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णव सम्भवम् |

नमामी शशिनं सोमं शम्भोर्मुकुट भूषणं ||

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 


Thursday, 14 October 2021

Kala dhaga bandne ke fayde काला धागा पहनने से दूर होगा शनि दोष और बुरी नजर तथा हर संकट से बचाता है ये जानिए इसके 10 अचूक उपाय

नमस्कार दोस्तों हमारे जोतिषशास्त्र में हर प्रकार का समाधान है,क्योंकि हमारे बाहरी पर्यावरण में अनगिनत शक्तियां घूमती है,जिसके बचाव के सभी समाधान बताए गये है उनमें से एक है काला धागा बांधने के उपाय, अक्सर आपने कयी बार अपने बडों से ये बात सुनी होगी की काला धागा पहनने से नजर नहीं लगती है। काला धागा पहनने से बाहरी शक्तियां छूती नहीं है। काला धागा पहनने से शनि,राहु और केतु के कुप्रभाओं से बचा जाता है, ज्योतिष शास्‍त्र में बताया गया है कि काला धागा बांधने से जीवन में कई सारे चमत्कारी फायदे होते हैं। समस्त नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। चाहे घर की हो या व्यक्ति बुरी नजर को दूर करने की शक्ति काले धागे में है। 

Kala dhaga bandne ke fayde काला धागा पहनने से दूर होगा शनि दोष और बुरी नजर तथा हर संकट से बचाता है ये जानिए इसके 10 अचूक उपाय 

काले धागे को अक्सर लोग गले, कमर,कलाई, कोहनी आदि अंगों पर बांधते है। तंत्र शास्त्र की माने तो यह धागा नकारात्मक ऊर्जा को सोखकर अपने भीतर समा लेता है और पहनने वाले की इनसे रक्षा करता है। उसे संकटों तथा बुरी नजर से दूर रखता है।काला धागा पहनते समय सावधानियाँ भी बरतनी चाहिए और यह धागा केवल शनिवार को शुद्ध होकर ही पहनना चाहिए तभी अधिक प्रभावशाली होता है। चलो जानते है काला धागा पहनने के फायदे व लाभ --

Kala dhaga bandne ke fayde

कला धागा बांधने के 10 अचूक उपाय 

1- हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए मंगलवार के दिन 11बार हनुमान चालिसा का पाठ करके काले धागे में 11 गांठें बांधनी चाहिए

2- काले धागे में हमेशा 9 गांठें मारकर ही पहनना चाहिए क्योंकि इससे 9 ग्रहों के प्रभाव को मजबूत करने की शक्ति मिलती है। 

3- काला धागा पैर पर बांधने से जीवन में खुशियाँ आती है और कयी सारे बदलाव आने लगते है,उसके कारोबार में वृद्धि होती है। 

4- काला धागा दोनों पैरों के अंगूठे मे पहनने से सभी पेट दर्द सम्बन्धित समस्याओं का रामबाण उपाय है।

5- काला धागा दोनों षैर में बांधने से गठिया, छोडो का दर्द, पैरालाईसिस और सभी पैर सम्बन्धित दर्द तुरन्त दूर होता है।

6- काला धागा कुण्डली में शनि दोष से मुक्ति दिलाने में बहुत लाभदायक होता है,इसे केवल शनिवार को ही धारण करना चाहिए। 

7- काला धागा में सेहत का राज भी छिपा होता है।क्योंकि यह धागा हमारी जठराग्नी शक्ति को बढाने में मदद करता है।

8- काला धागा खासकर बुरी नजर को दूर करने के लिअए बांधा जाता है। इसीलिए लोग अपने व्यवसाय क्षेत्र में काला धागा नींबू और मिर्च को एकसाथ बांधते है ताकी किसी की बुरी नजर न लगे।

9- काला धागा आर्थिक लाभ भी दिलाता है,शास्त्रों की मानें तो मंगलवार के दिन पैर में काला धागा बांधने से सुख समृद्धि व धन लाभ प्राप्त होता है। 

10- काला धागा जादू टोना आदी के प्रभाव को भी दूर करता है। मान्यता है कि जिसके शरीर पर काला धागा बंधा होता है, उस पर जादू टोना असर नहीं करता है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 

Wednesday, 13 October 2021

Diwali Parv Upay in hindi इस दीपावली में करें ये उपाय नहीं होगी कभी पैसों की कमीं मां लक्ष्मी होगी प्रसन्न देगी वरदान

Diwali Parv Upay in hindi इस दीपावली में करें ये उपाय नहीं होगी कभी पैसों की कमीं मां लक्ष्मी होगी प्रसन्न देगी वरदान

नमस्कार दोस्तों भारत में त्यौहारों का  बढा महत्व है और खासकर दिवाली इस दिन के लिए लोग कयी दिन पहले से तैयारी करते हैं, घर की सफाई करते है,यानी नकारात्मक ऊर्जा को बाहर फेंकते है।और दीवाली के दिन विधि-विधान से लक्ष्मी पूजन करते है। क्योंकि जीवन में धन पैंसा सभी कमाना चाहते है। और पैंसा सभी के भाग्य में होता है लेकिन हमें उसे अर्जित करना नहीं आता,हमारे शास्त्रों में मान्यता है कि दीपावली के लिए लक्ष्मी पूजन से घर में धन और धान्य की कमी नहीं आती है। माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है।लेकिन अगर आप दीपावली के दिन विधि विधान व कुछ उपायों को अपनाते है तो आपके यहाँ भी धन वर्षा हो सकती है। इन उपायों में से एक या ज्यादा उपाय करने से दरिद्रता दूर होती है और घर मां लक्ष्मी का आगमन होता है। क्योंकि बिना परीश्रम करे हमें कुछ प्राप्त नहीं होता है। परीश्रम शारीरिक रूप से हो या फिर मानसिक रूप से तभी धन आगमन होगा और आपकः परिवार पर लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी।

Diwali Parv Upay in hindi इस दीपावली में करें ये उपाय नहीं होगी कभी पैसों की कमीं मां लक्ष्मी होगी प्रसन्न देगी वरदान

जीवन में खुशियाँ तभी आती है जब लक्ष्मी जी का आशीर्वाद आपके ऊपर हो। मां लक्ष्मी की पूजा से आपको लाभ मिलता है अगर आप पैसों से जुड़ी समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो इन उपाय को आपको दीवाली के दिन करने से अच्छा लाभ पा सकते हैं धन से जुड़ी तमाम समस्याओं से मुक्ति, कर्जा से छुटकारा मिलेगा, घर में सुख समृद्धि आएगी। आदि कयी समस्याएं दूर होगी।

दीपावली में धन प्राप्ति के 8 महा उपाय

1- दीपावली के दिन हनुमान मन्दिर जाकर सरसों के तेल का दीपक जलाएं तथा उसमें एक साबुत लांग रख दे। इससे रूके हुए कार्य सफल होते है।

2- दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजन में कौडी और गोमती भी रखें बाद में उसे तिजोरी में रखें।  इससे धन में वृद्धि होगी और यह तंत्र शक्ति का भी काम करता है।

3- दीपावली की रात को लक्ष्मीसूक्त या श्रीसूक्त का पाठ विधि विधान से करें ऐसा करने से आमदनी में वृद्धि होती है ।

4- कमल के पुष्प की माला बना करके उसे लक्ष्मी जी और बिष्णु को अर्पित करके अच्छा धन लाभ प्राप्त कर सकते है।

5- दीपावली के दिन जटा वाला नारिल लेकर उसे मौली से बां ले और लाल सिंदूर का टीका लगाकर रात को ठीक 12 बजे अपने सर पर 3 या 7 बार घुमाकर चौराहे पर फेंक दें लेकिन ध्यान रहे घर आते समय पीछा न देखें। 

6- दीपावली के दिन शाम के समय सूर्यास्त के बाद पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलाए।फिर पीछे मुड़कर न देखें। 

7- दीपावली के दिन किसी शिव मन्दिर जाकर जल में थोड़ा साबुत चावल मिलाकर उससे अभिशेक करें भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते है।

8- दीपावली के दिन रात को तिजोरी में लाल कपडा बिछाकर । उसके ऊपर बैठी हुई लक्ष्मी की फोटो रखें।  ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होकर आशीर्वाद प्राप्त करती है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 

Tuesday, 12 October 2021

Karwa chauth Upay in hindi करवा-चौथ में करें ये उपाय रिश्तों में आएगी मिठास बढेगी पति की लम्बी उम्र तथा धन-वैभव

नमस्कार दोस्तों हिन्दू धर्म में त्यौहारों करक चतुर्थी यानी करवा चौथ व्रथ महिलाओं के लिए पतित पावन माना गया है। इस व्रत को महिलाए अपने पति की लम्बी उम्र और सौभाग्य समृद्धि के लिए रखती है।अक्सर कई बार जीवन में ऐसी मुसीबतें आते हैं उनका हल निकालना बहुत मुश्किल होता है,कुछ लोगों को कुछ गंभीर बीमारियां हो जाती हैं जिसकी वजह से लोग काम कर पाने में असमर्थ होते हैं।कयी बार रिश्तों में खटास उत्पन्न होती है,पति पत्नी अलग-थलग रहने लगते है,दूरियां आ जाती है।एक दूसरे की भावनाओं को नहीं समझ पाते है।

Karwa chauth Upay

लेकिन हमारे धर्म में खासकर महिलाओं में अथाह शक्ति होती है,वह हर संकट से अपने परिवार तथा स्वामी पति को निकाल सकती है।क्योंकि महिलाओं में यह खास गुण होता है जो वह ठान लेती है उसे कर के दिखाती है इसीलिए  यदि आपके पति या परिवार में किसी को ऐसी समस्या है तो करवाचौथ का व्रत करें तथा इस दिन इन उपाय को करने आपके परिवार व पति की सभी समस्याओं का अंत होगा, जी हां, करवाचौथ ना सिर्फ पति की लंबी आयु बढ़ाता है बल्कि ये पति की परेशानियों को दूर करने और उन्हें स्वस्थ रखने के लिए भी किया जाता है,करवा चौथ व्रत सर्व शक्तिशाली माना जाता है।

Karwa chauth Upay in hindi करवा-चौथ में करें ये उपाय रिश्तों में आएगी मिठास बढेगी पति की लम्बी उम्र तथा धन-वैभव

1- पति की सफलता व धन-वैभव के रास्ते खोलने के लिए--

करवा-चौथ के दिन स्नानादि के बाद गणेश भगवान जी को कच्ची हल्दी की कुछ गांठे अर्पित करते समय इस मंत्र का उच्चारण करें  -- ॐ श्री गणाधिपतये नमः

2- तुला दान का महत्व 

करवा-चौथ व्रत के दिन अगर आप अपने पति का किसी सुयोग्य ब्राह्मण से तुलादान कराते है,या आप रुद्राभिषेक करते है तो इससे पति की लम्बी उम्र तो होती ही है, साथ में धनागमन तथा तरक्की के रास्ते भी खुलते है।

3- गणेश को अर्पित करें गुड-घी

अगर आप अपने परिवार को तथा अपने पति को सभी विघ्नों से दूर रखना चाहते है,या फिर अपने पति की लम्बी आयु के साथ आरोग्यता चाहती है तो करवा-चौथ के दिन गणेश जी को देसी घी और गुड अर्पित करें और कुछ समय बाद आप उसे गाए को खिला दें तो भगवान् गणेश प्रसन्न होकर अपना आशीर्वाद प्रदान करेंगे।

4- चन्द्रमा को ऐसे दें अर्घ्य 

चन्द्रमा भगवान सर्व शक्तिशाली माने जाते है अगर आप अपने वैवाहिक जीवन में खुशियाँ तथा मधूरता एवं नजदीकियां लाना चाहते है तो करवा-चौथ के दिन चन्द्रमा को अर्घ्य देते समय जल में गुलाब की कुछ पंखुड़ियां डालें तथा थोडी लाल सिंदूर डालने से प्रेम बन्धन मजबूत होता है और पति को दीर्घायु प्राप्त होती है।

5- गणेश यंत्र की स्थापना व पूजा करें -

करवा-चौथ पर गणेश भगवान् की पूजा-अर्चना करना शुभ माना जाता है।इस दिन आप घर पर गणेश यंत्र की स्थापना तथा विधि-विधान से पूजा करें इससे आपके घर में सुख-शान्ति बनी रहेगी, पति की तरक्की होगी तथा पति को सफलता मिलेगी।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सफलता पाने का मूल मंत्र 
👉 खूब सार पैंसे कमाने की ट्रिक व मंत्र 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे