Monday, 14 December 2020

वो यादें/ पुरानी यादों पर कविता /Poem on nostalgia in hindi,Those memories poem

वो यादें/ पुरानी यादों पर कविता /Poem on nostalgia in hindi,Those memories poem 

नमस्कार दोस्तों,आज हम बेहद ही खूबसूरत यादों भरी कविता लेकर आए है, जो आको कुछ अलग ही एहसास कराएगा। क्या आपने अपने किसी खास दोस्त के साथ उन दिनों में मस्ती की है? अगर की है तो आपको हमारी life hindi poem पुरानी Those memories poem life वाली यादें फिर से ताज़ा कर देगी और आपको ये आपके खास दिनों की मस्ती वाली कविता पढ़ कर बहुत मज़ा भी आएगा ।Looking For Yaadein Shayari,poem? Here are some amazing collection of  Yaadein Shayari,poem. Read the best Yaadein Shayari Hindi Mai, 

वो यादें 

कुछ यादें यूं ही यादें बनकर रह गयी,

नम पलकों में गुजरी रातें,जिनके ख्वाबों में न हम थे ।

इस मरूस्थल हृदय में छुपी है खामोशियां, 

पीके लहू हृदय का जिसमें पनपी है नागफनियां ।

वक्त-बेवक्त पहले जहाँ चाहा हंस लेते थे,

आज तो हंसी को तमीज और आंशुओं को तनहाई चाहिए ।।

कुछ यादें यूं .................................................... ।।

छोटी सी निशानी को हम पलकों  मे सजाए बैठे है,

सुकुमल हो उठता है मन जैसा साथ तुम्हारा हर पल हो ।।

कुछ यादें यूं .....................................................।।

कांच के महल को दिल में जुगनू सजाए बैठे थे,

उन जुगनुओं ने तोडके दम वहाँ अंधेरा सजा दिया ।।

आजाद कर दूं मै खुद को खुद से अगर,

कम्बखत ओ तस्वीर फिर से नजर आती है ।।

कुछ यादें यूं ...............................................।।

आती न बरबसता अगर तलवे चाट लिए होते,

कसूर जिन्दगी का था इतना कि हमें जी हुजूरी न पसंद थी

मैं खो गया हूं भंवर में,इक आवाज लगा देना,

मुझसे मेरी वो पुरानी यादें निकाल देना ।।

कुछ यादें यूं ही यादें बनकर रह गयी,

नम पलकों मे सहमी यादें जिनकी यादों में न हम थे ।।

अरूण सेमवाल 

अन्य सम्बन्धित काव्य साहित्य (कवितायें)-----


अन्य सम्बन्धित लेख साहित्य----


0 comments: