Thursday, 16 September 2021

Vastu tips: वास्तुशास्त्र के अनुसार करें घर में मंदिर की स्थापना बरसेगी खुशियाँ बनोगे मालामाल 10 महत्वपूर्ण नियम व उपाय

Vastu tips: वास्तुशास्त्र के अनुसार करें घर में मंदिर की स्थापना बरसेगी खुशियाँ बनोगे मालामाल 10 महत्वपूर्ण नियम व उपाय

 दोस्तों Vastu Shastra के अनुसार घर में पूजा-घर यानी  मंदिर स्थापित करने के लिए ईशान कोण यानी उत्तर पूर्व दिशा को ही चुनना चाहिए,क्योंकि यह दिशा देवताओं के लिए शुभ मानी जाती है। ईशान कोण का स्वामी ईश्वर ही माने जाते है। लेकिन वास्तु की मानें तो कुछ ऐसी भी चीजें हैं, जिन्हें पूजा घर में रखना शुभ नहीं माना जाता। क्योंकि शास्त्रों में के अनुसार इस स्थान पर व्यक्ति आध्यात्मिक शांति का अनुभव होता है,व्यक्ति को सुख शान्ति मिलती है। इसलिए इस स्थान के निर्माण के समय विशेष सावधानी बरतनी चाहिए और विशेष ध्यान भी रखना चाहिए।यदि आप घर में मंदिर का निर्माण  तो इन नियमों का पालन अवश्य करें ।

Vastu tips: वास्तुशास्त्र के अनुसार करें घर में मंदिर की स्थापना बरसेगी खुशियाँ बनोगे मालामाल 10 महत्वपूर्ण नियम व उपाय

यह प्राचीन धर्म ग्रंथों में भी माना गया है कि घर में धन धान्य और सुख समृद्धि की प्राप्ति के लिए पूजा हमेशा उत्तर दिशा की ओर मुख करके तथा विशेष ज्ञान प्राप्ति के लिए लिए पूर्वं दिशा की ओर मुख करके ही करना चाहिए तभी शुभ फल प्राप्त होता है। 

पूजघर से सम्बन्धित 10 ध्यान देने योग्य बातें  

- अगर आप दुर्गा मां की स्थापना पूजाघर में करवाना चाहते हैं तो आश्विन माह में ही करवाएं,इस माह में नवरात्र भी आते है यही शुभ दिन होता है।

- पूजा-घर में हवन आदि की व्यवस्था मंदिर के आग्नेय कोण में ही करनी चाहिए। 

- पूजा घर में हनुमान जी स्थापित करना हो तो उनका मुख नेर्ऋत्य कोण में ही होना शुभ रहेगा।

-  पूजा घर में कभी भी 7 से 9 इंच बड़ी मूर्ति नहीं रखनी चाहिए। अन्यथा दोष उत्पन्न होते है।

- पूजा-घर में कभी भी शयनकक्ष नहीं होना चाहिए और अगर ऐसी व्यवस्था न हो पाए तो मंदिर को चारों ओर से पर्दे से ढकना चाहिए। 

- घर के पूजा-घर में कभी भी मूर्ति स्थापना नहीं करनी चाहिए लेकिन आप छोटी सचल मूर्ति को स्थापित कर सकते है।

- घर में दो शंख, तीन देवी प्रतिमा, दो शिवलिंग, तीन गणेश  और दो शालिग्राम एक साथ रखने से गृहस्वामी को अंशाति मिलती है। तथा परिवार संकट में पढता है।

- पूजा घर जितना साफ-सुथरा होगा वहाँ निश्चित ही मां लक्ष्मी और देवता का वास रहेगा तथा घर में सुख शान्ति रहेगी।

- पूजा-घर में रंग करते समय यह विशेष ध्यान दें कि दीवारों का रंग सफेद या हल्का पीला या नीला ही हो,अन्य कोई नहीं। 

- पूजा घर के द्वार पर दहलीज पूजा के दौरान मूर्ति के आमने सामने नहीं बल्कि दाएं कोण में बैठना चाहिए। 

१० - पूजा-घर में इन्द्र, सूर्य, बिष्णु, कार्तिकेय और ब्रह्मा का मुख हमेशा पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर ही हो।

सम्बन्धित लेख ------

जानिए राशी अनुसार भवन निर्माण का सम्पूर्ण विधान
घर के मुख्य द्वार पर जरूर करें यह काम होगी चरो ओर खुशियाँ 
गरम पानी पीने के जबरदस्त फायदे हर बीमारी का बाप
धन प्राप्ति के 5 आसान उपाय बन जाओगे करोड़पति 
वास्तु शास्त्र के सिद्धांत करें अपने सपनों के घर में इसका प्रयोग बरसेगी खुशियाँ 
ॐ मंत्र जाप के अद्भुत लाभ



Benifit of hot water in hindi गरम पानी पीने के लाभ, इम्युनिटी बढाने और कयी बीमारियों का बाप है गरम पानी

Benifit of hot water in hindi गरम पानी पीने के लाभ, इम्युनिटी बढाने और कयी बीमारियों का बाप है गरम पानी

नमस्कार दोस्तों पानी हमारे जीवन के बहुत जरूरी है क्योंकि मानव शरीर में 60 प्रतिशत पानी ही होता है। हम जितना अधिक पानी पीते है उतना अधिक फायदा हमें होगा। खासकर जब हम सुबह उठकर बिना कूला करे, गुनगुना पानी पीते है तो इसके कयी लाभ हमें मिलते है।Benifit of hot water ये हाईली रिकमेंडेड है कि एक व्यक्ति को खुद को स्वस्थ और फिट रखने के लिए एक दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए। इससे हमें ठेर सारे लाभ मिलते है जैसे सौंदर्य का बढना, पाचन शक्ति मजबूत होना, कब्ज दूर होना भूख अधिक लगना आदि ये न केवल शरीर को हाइड्रेटेड रहने के लिए बल्कि वजन घटाने में भी सहायक है।  सुबह और शाम को गरम पानी से मोटापा भी गायब होता है। partiality Development बढती है। इसीलिए आज हम गरम पानी पीने के फायदे आपको बताएंगे जो आपको स्वस्थ तथा तंदुरुस्त रखेंगे। https://youtu.be/aDQYk1nXr50 

Benifit of hot water in hindi गरम पानी पीने के लाभ, इम्युनिटी बढाने और कयी बीमारियों का बाप है गरम पानी

पानी पीने के कयी तरीके है जैसे खाली पेट पीना या नींबू के साथ पानी पीना या अन्य कोई भी कारण हो लेकिन यह हमेशा हमें लाभ ही देता है। आइये आज हम आपको गरम पानी पीने के कुछ रामबाण तरीके उपाय बताएंगे जो आपको लाभ ही लाभ देगा।

1- पीरियड के दौरान गरम पानी पीने के फायदे ÷ महिलाओं को हर महीने इस असहनीय दर्द से जूझना पढता है लेकिन अगर आप गरम पानी पीना शुरू करेंगे तो आपकी इम्युनिटी पावर तेज होगी यानी रोगों से लडने की शक्ति आपको मिलेगी इसीलिए गरम पानी खूब सार पियें

2- गरम पानी बढाता है चेहरे की सुन्दरता ÷ अगर आप ब्यूटी यानी सुन्दर दिखना चाहते है तो गरम पानी पीने से आपका चेहला ग्लो हो जाएगा आपकी पर्सनैलिटी देखने लायक होगी चेहरे पर चमक रहेगी।

3- थकान की समस्या दूर होगी÷ थकान तभी लगती है जब हमारी इम्युनिटी पावर कमजोर पढ जाती है और यह केवल पानी के कारण ही होता है इसीलिए पानी खूब पियें। 

4- कब्ज,अपच जैसी समस्या दूर होगी ÷ हमारा खाना अपच तभी होता है जब हमारे अंदर जठराग्नी कमजोर पढ जाती है इसका मुख्य कारण है पानी की कमी। और पेट सही है तो सबकुछ सही होता है इसीलिए पेट और पाचन क्रिया को मजबूत करने के लिए हमेशा खूब पानी पियें।

5- चेहरे के पिंपल,कील व झाइयां दूर हो जाए ÷ जितना अधिक हम पानी पीते है उतना ही अधिक निखार हमारे चेहरे पर दिखता है और साथ ही चेहरा एकदम क्लीन हो जाता है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 

Wednesday, 15 September 2021

सफलता पाने का मूल मंत्र | करें कुण्डली में गुरू ग्रह को मजबूत बदलेगा भाग्य, गुरू के उपाय success mantra in hindi

सफलता पाने का मूल मंत्र | करें कुण्डली में गुरू ग्रह को मजबूत बदलेगा भाग्य, गुरू के उपाय success mantra in hindi

 दोस्तों अगर आप अपनी तरक्की चाहते है? अगर आप अपने को सफल बनाना चाहते है? अगर आप कामयाबी हासिल करके खूब सारा धन व मान-प्रतिष्ठा कमाना चाहते है? अगर आप अपने भाग्य को बदलना चाहते है? अगर आप चाण्डाल योग से बचना चाहते है तो इसके लिए एक ही उपाय है आप अपने गुरू को मजबूत कीजिए। 

क्योंकि अगर कुंडली में गुरु की खराब स्थिति होने से व्यक्ति शिक्षा पूरी नहीं कर पाता है। वह लाख मेहनत करने के बावजूद भी कामयाब नहीं हो पाता है। और इससे सांस या फेफड़े की बीमारी, गले में दर्द, आंखों में तकलीफ, मकान और मशीनों की खराबी आदि भी इसके खराब स्थिति के कारण ही होता है। लेकिन गुरू प्रसन्न होकर मन चाहा फल भी देता है।अगर आपके रुपर भी गुरु की खराब स्थिति चल रही है तो आप गुरु रत्न पुखराज भी धारण कर सकते है।  (पुखराज रत्न प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें) 

इसीलिए आज हम आपके लिए गुरु की स्थिति को मजबूत करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपाय लेकर आ रखें हैं, जिसे आप तन मन से पवित्र होकर गुरुवार के दिन करना चाहिए। इससे आपकी वर्तमान स्थिति में सुधार होगा तरक्की के द्वार खुलेंगे और लाभ ही लाभ होगा

सफलता पाने का मूल मंत्र | करें कुण्डली में गुरू ग्रह को मजबूत बदलेगा भाग्य, गुरू के उपाय success mantra in hindi

गुरु यानी वृहस्पति ग्रह विशेष रूप से विद्या, यश, मान प्रतिष्ठा,  संतान व स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण माना गया है। अगर आप इन सभी को प्राप्त करना चाहते है तो करे यह उपाय गुरू ग्रह को मजबूत करने पर चमकेगा भाग्य और मिलेगी सफलता ये है महत्वपूर्ण उपाय  --

1- पहला उपाय - (ॐ बृं वृहस्पते नमः) इस मंत्र का प्रातः स्नानादि करने के बाद पूजा पाठ करके 108 बार पवित्र मन से जाप करें। नित्य क्रम से आपका भाग्य भी बदलेगा और सफलता भी मिलेगी।

2- दूसरा उपाय - गुरुवार के दिन प्रातःकाल उठकर स्नान के बाद पूजा पाठ करे और फिर भगवा बिष्णु के चित्र या मूर्ति के सामने और यह भी न हो तो मन में बिष्णु भगवान् का ध्यान करके बिष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें।  आपकी मनोकामना पूर्ण होगी। 

3- तीसरा उपाय - गुरुवार के दिन मंदिर जाकर किसी योग्य व्यक्ति को पीला वस्त्र, फल, धातु, सोना या फिर चने की दाल दान करें।  

4- चौथा उपाय - हमेशा गुरुवार के दिन केले के पेड के नीचे शाम के समय दीपक जलाकर, गुड चना और पीला पुष्प अर्पित करें आपकी इच्छापूर्ति होगी।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 


Sunday, 12 September 2021

Wealth Tips-धन प्राप्ति के 5 आसान उपाय|इस मंत्र जाप से बन जाओगे मालामाल होगी पैसों की बारिश

Wealth Tips-धन प्राप्ति के 5 आसान उपाय|इस मंत्र जाप से बन जाओगे मालामाल होगी पैसों की बारिश

 नमस्कार दोस्तों धन यानी रुपया पैंसा हम सभी के लिए बहुत जरुरी है। क्योंकि पर्याप्त धन होने हम अपनी जरूरतों को पूरा कर सकते है,और समाज तथा पास पडोस में हमारी मान प्रतिष्ठा बढती है। लेकिन आपको पता है धन हर किसी के पास पर्याप्त नहीं होता है हम मेहनत तो बहुत करते है लेकिन पैसा बचत नहीं रह पाता है। फिर मनुष्य धन प्राप्ति के उपाय ढूँढने लगता है। धन कैसे कमाएं? आमदनी कैसे बडे? आकस्मिक धन प्राप्ति के उपाय क्या है? घर में लक्ष्मी कैसे आए आदि।लेकिन क्या आपको पता है कि अपार धन प्राप्ति कैसे होती है। हमारे शुद्ध आचरण और शुद्ध विचारों से हमारी गरीबी और अमीरी का राज हमारे अंदर ही छुपा होता है। आज हम आपको दरिद्रता, गरीबी, धनागमन, कुबेर का खजाना या कर्ज से छुटकारा पाकर धनवान बनने के लिए कुछ सरल उपाय व मंत्र बता रहे है जो आपको रातों रात मालामाल कर देंगे। आप इन अचूक उपाय को आजमाकर धनवान बन सकते हैं।

Wealth Tips-धन प्राप्ति के 5 आसान उपाय|इस मंत्र जाप से बन जाओगे मालामाल होगी पैसों की बारिश 

दोस्तों यह तो आपने सुना ही होगा कि बिना परीश्रम के कोई धनवान नहीं बन सकता। लेकिन इसके साथ ही आपके अपने नित्य क्रम व आचरण में भी बदलाव करना होगा तभी आप सांसारिक सुखों तथा लक्ष्मी जी का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है। धन कमाने की विधि?धन कमाने का तरीका?धन कमाने के टोटके?धनवान कैसे बने?धनवान बनने के उपाय क्या है?आदि अगर आप अपने जीवन में महत्वपूर्ण बदलाव करके इन नियमों को अपनाते है तथा जो मंत्र मै आपको दे रहा हू उसका जाप करते है तो अवश्य ही माता लक्ष्मी की आप पर कृपा होगी और आप मालामाल बन जाओगे।

1- ब्रह्म मुहूर्त में करें देहली पूजा

जो व्यक्ति हमेशा सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर यानी सुबह 4 बजे उठकर घर का मुख्य द्वार खोल देता है उसके घर में हमेंशा लक्ष्मी का वास होता है।क्योंकि सुबह के समय घर में सकारात्मक ऊर्जा के साथ मां लक्ष्मी भी प्रवेश करती है।  इसके लिए आपको सुबल उठकर नहा धोकर पूजा-पाठ करने के बाद मुख्य देहली (द्वार)  की पूजा करनी चाहिए।  घर धन धान्य से भरा रहेगा।

2- शुक्रवार को करें यह उपाय-

शुक्रवार मां लक्ष्मी का वार भी माना जाता है। इस दिन आपको सुबह उठकर नहा धोकर व पूजा पाठ करने के बाद कमल का पुष्प लाकर अपनी तिजोरी या जहाँ आप पैसा रखते है उसे लाल कपड़े में लपेटकर रखने से धनागमन में वृद्धि होती है और परिवार के सदस्यों हर सदस्य के हाथों में बरकत होने लगती है।

3- घर कभी भी खाली हाथ न जाएं -

पहली बात घर को हमेशा मंदिर समझना चाहिए और घर में रहने वाले बच्चों को भगवान फिर जिस तरह आप मंदिर में खाली हाथ नहीं जो उसी तरह घर में भी खाली हाथ न जाएं इससे बच्चे निराश होते है। आप चाहे एक टाॅफी लेकर ही जाएं पर खाली हाथ न जाएं। इससे अवश्य ही आपकी आमदनी बढेगी और आप खूबसारा पैंसा भी कराएंगे। 

4- रसोई को रखें साफ-

रसोई में ही आपकी किस्मत की चाबी होती है। रसोई जितनी स्वच्छ व पवित्र होगी लक्ष्मी वहाँ निवास करेगी। इसलिए कभी भी रसोई में कचरा न फैलाएं और खासकर रात को झूठे बर्तन न रखें।  इससे मां अन्नपूर्णा रूष्ट होकर घर में दरिद्रता लाती है। और रसोई जितनी साफ होगी आप उतने ही अधिक धनवान बनेंगे।

5- 27 दिन तक करें इस कुबेर मंत्र का जाप-

अगर आप अत्यधिक धन कमाना चाहते है तो आज से ही करें यह उपाय बनोगे करोड़पति।  जी हां केवल 27 दिन का रोज शुबह और शाम को इस मंत्र का जाप करें।  लेकिन ध्यान रहें यह नियमित करना है। शुद्ध व पवित्र होकर 108 बार मोती या चंदन की माला से जाप करें और ध्यान एकाग्रचित्त होकर करें  -- कुबेर मंत्र - {ॐ श्रीं ॐ ह्रीं श्रीं ह्रीं  क्लीं वित्तेश्वराय नमः } 

इस मंत्र जाप से कुबेर तथा मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर आशीर्वाद प्रदान करती है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 


Thursday, 9 September 2021

Ayodhya Ram Mandir in hindi हिन्दुओं का आस्था व श्रद्धा का केन्द्र अयोध्या में श्रीराम मंदिर|जानिए क्यों विशेष है यह मंदिर

नमस्कार दोस्तों आज हम पूरे भारत और पूरे विश्व में हिन्दू धर्म अनुयायी का आस्था व विश्वास का केन्द्र परम पवित्र अयोध्या श्रीराम मंदिर के इतिहास में 5 अगस्त 2020 का दिन सुनहरे अक्षरों में दर्ज हो गया। जहाँ पूरे हिन्दू समाज में इस दिन का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा था।नहीं वर्ष 1528 से लेकर 2020 तक यानी 492 साल के इतिहास में कई मोड़ आए।कयी बार हिन्दुओं की आस्थाओं पर आघात पहुचाए गये।कयी संघर्षों के बाद और कयी लोगों के बलिदान के बाद यह शुभ अवसर 9 नवंबर 2019 का दिन जब 5 जजों की संवैधानिक बेंच ने ऐतिहासिक फैसले को सुनाया। जिससे श्रीराम भक्तों की इतने लम्बे समय बाद जीत हुयी।

Ayodhya Ram Mandir

Ayodhya Ram Mandir in hindi हिन्दुओं का आस्था व श्रद्धा का केन्द्र अयोध्या में श्रीराम मंदिर|जानिए क्यों विशेष है यह मंदिर 

भगवान बिष्णु के अवतार माने जाने वाले श्रीराम पूरे भारत वासियों के हृदय में विराजमान है। उनके शिष्टाचार, आचरण,सभ्यता और संस्कृति आज भी हमारे अंदर जमी हुयी है।बात राम मंदिर की आए तो सबका खून खौल उठता था की राम हमारे पूर्वज है और हमसे यह अधिकार छीना जा रहा है। अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि पर बनने वाले अद्वितीय और विशाल राम मंदिर के बनने से हिन्दुओं का अस्तित्व हिन्दुओं की पहचान और हिन्दुओं की आस्था और विश्वास की जीत हुयी है। क्योंकि यह राम मंदिर प्राचीन काल से जन जन का श्रद्धा व विश्वास का केन्द्र रहा है।

अयोध्या श्रीराम मंदिर का संक्षिप्त इतिहास 

श्रीराम जी प्राचीन काल से हिन्दुओं के मार्गदर्शक और आस्था व विश्वास के प्रतीक रहे है। रामायण महाकाव्य के अनुसार श्रीराम की जन्म भूमी विराट अयोध्या नगरी है। यहीं पर मुस्लिम सम्प्रदाय ने 15 वीं शताब्दी में मस्जिद का निर्माण कराया था तभी से यह राम की पवित्र भूमि पर विवाद रहा और राम भक्तों को कयी आघात पहुचाए गये। राम भक्तों के आक्रोश के बाद भी सफलता हाथ नहीं लगी। सभी भक्तों ने चंदा इकट्ठा करके मंदिर निर्माण करने की सोची। 1992 में राम भक्तों में फिर से आक्रोश जाग उठा और बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया गया। इस कारण हिंसा ने विकराल रूप धारण किया। कयी राम भक्त बलिदान हुए कयी बार आशाएं धूमिल हुयी, अनेकों लडायी और हार के बाद भी राम भक्तों का जुनून शान्त नहीँ हुआ और आखिर कार  वर्ष 2020 में श्रीराम और राम भक्तों की जीत हुयी।

श्रीराम मंदिर के लिए 44 दिन में एकत्रित किए 2100 करोड रूपये का चंदा
Ayodhya Ram Mandir

कहते है विश्वास की जीत होती है। ऐसा ही भाव राम भक्तों में देखने को मिला। इसीलिए तो राम भक्तों ने मंदिर निर्माण के लिए दिल खोलकर दान किया। राम मंदिर निर्माण निधि अभियान में केवल 44 दिन के भीतर 2100 करोड रूपये का चंदा इकट्ठा हुआ। सायद ही यह इतिहास में पहली बार हुआ होगा।

इस अभियान की खास बात यह रही कि इसमें हर राम भक्त का अंश व योगदान जोडा गया। चाहे वह कितना भी गरीब हो या कितना भी अमीर क्यों न हो 10 रूपये से लेकर हजारों रूपयें की राशि लोगों ने अपने आराध्य प्रभु श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया। इस मंदिर तीर्थ क्षेत्र न्यास के कोषाध्यक्ष श्री स्वामी गोविन्द देव गिरी जी का कहना है कि हर वर्ग के आस्था व विश्वास तथा सहयोग से राम मंदिर की नींव रखी जाएगी।

राम मंदिर के लिए भक्त ने रखा 28 साल का उपवास 

जी हाँ राम मन्दिर निर्माण मे लगे 492 साल का इतिहास ऐसा ही नहीं है इसके लिए राम भक्तों ने कयी संघर्ष किए है एक भक्तिन ने तो 28 साल से उपवास रखा है और संकल्प लिया है कि जब तक राम मंदिर बन नहीं जाता वह अन्न ग्रहण नहीं करेगी। सूत्रों की माने तो आज तक यह भक्त केवल दूध और केला खाकर जिन्दा थी और अभी भी संकल्प ले रखी है कि जिस दिन राम मंदिर में भण्डारा होगा तभी वह अपना उपवास तोडेगी। भक्तों के इसी विश्वास ने इतने बढे संकट के विषय को बिना किसी विद्रोह का हल निकाल दिया।इसीलिए तो सनातन धर्म में अद्वितीय शक्ति है जो हर मुश्किल कार्य को भी आसान कर देती है।

श्रीराम मंदिर की नींव में 2000 फीट नीचे रखा है टाईम कैप्सूल

इस राम मंदिर का इतिहास सैकडों वर्ष पुराना है। तथा कयी विवादों से निपटकर आया है। भविष्य में अगर कोई राम मंदिर पर रिसर्च करना चाहे या फिर से विवाद का कारण बने तो इन महत्वपूर्ण दस्तावेजों से मदद मिल सके।

श्रीराम जन्मभूमि में इन 7 स्थानों का भी है बड़ा महत्व जानें क्यों 

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अध्यक्षता में राम मंदिर का भूमि पूजन किया गया और साथ ही इस अयोध्या नगरी में कयी तीर्थों को विशेष महत्व देकर राम मंदिर से इन्हें जोडा गया। क्योंकि राम भक्तों का आस्था व श्रद्धा का केन्द्र श्रीराम भूमि अयोध्या नगरी में और भी धार्मिक स्थलों व मंदिरों का दर्शन कर सके इसके लिए इन प्रमुख 7 स्थलो को जोडा गया --

1- हनुमानगढी - राम मंदिर के साथ यहाँ हनुमानगढी के दर्शन करना भी अनिवार्य है तभी राम मंदिर का फल प्राप्त हो पाता है। श्रृद्धालु सबसे पहले हनुमानगढी का ही दर्शन करते है। क्योंकि श्रीराम अपने भक्तों को पहले स्थान देते थे उन्हीं में हनुमान जी भी एक थे।

2- सरयू तट - सुन्दर अयोध्या नगरी सरयू नदी के किनारे बसी है। इस नदी में श्रद्धालु श्रद्धा व विश्वास के साथ स्नान करने आते है।

3- राजा मंदिर - अयोध्या में,राम भक्तों का श्रद्धा का प्रतीक राजा मंदिर सरयू तट के किनारे पर है। यह वास्तुकला तथा अनेकों कलाओं से सुशोभित है जो भक्तों को रोमांचित करता है।

4- कनक भवन - अयोध्या के उत्तर पूर्व में यह भवन माता सीता को शादी के बाद उपहार स्वरूप दिया गया था। यह भी श्रद्धा का केन्द्र है। 

5- दिगंम्बर जैन मंदिर - जैन धर्म के प्रथम तीर्थकर ऋषभदेव जी की जन्म स्थरी भी अयोध्या नगरी होने के कारण आस्था व विश्वास का केन्द्र बना हुआ है।

6- सीता की रसोई - यहाँ पर पहले माता सीता की रसोई होती थी इसको बाद में मंदिर बनाया गया। यहाँ पर अभी भी पुराने बर्तन व अन्य सामान देखने के लिए भक्तों का जमावड़ा लगा रहता है। 

7- दन्तधावन कुण्ड - यह स्थान अयोध्या नगरी के बीचो-बीच है। यहीं पर श्रीराम जी दांत साफ करने आया करते थे जो आज भी आस्था का केन्द्र बना हुआ है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 


Wednesday, 8 September 2021

ऑनलाइन पैंसे कैसे कमाएं, घर बैठे Google, blogging, you tube और affiliate Program से पैंसे कमाने के आसान तरीके

दोस्तों आज की दुनियाँ बहुत एडवांस हो गयी है।खासकर कोरोना काल में लोगों का रूझान Online क्षेत्र में अधिक बढ गया है। अब नौकरी कोई नहीं करना चाहता है और ना ही Hard work कोई नहीं करना चाहता।और आज कल का बच्चा भी online के प्रति प्रेरित है, आज काफी सारे लोग हमेशा Google पर search करते रहते हैं। कोरोना से सभी लोग बरोजगार हो गये है इसीलिए मे how to earn money online मन में कयी खयाल आ रहे है।रात दिन सोच रहा है कि ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए? कैसे online अपना कार्य शुरू करे? Online कहाँ से शुरु करें।यही सारे जवाब के लिए इस आर्टिकल में हम कयी सारे साईट और online work के बारे में बताने जा रहे है।

Google, blogging, you tube affiliate Program

ऑनलाइन पैंसे कैसे कमाएं, घर बैठे Google, blogging, you tube और affiliate Program से पैंसे कमाने के आसान तरीके 

अगर आपके अन्दर कुछ काॅशल है तो उसे बाहर निकालिए क्योंकि  अब ऑनलाइन का दौर चल चुका है। सफ फ्री फ्री फ्री में पैंसा कमाने की शोच रहे है।ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं आज कयी सारी जानकारी फेसबुक,ट्विटर, सेयरचैट, आदि ऑनलाइन इंटरनेट की help से जानकारी लेकर पैसे कमा सकते है।इस post में आपको पूरी तरह सटीक व सही जानकारी दी जाएगी। कि ऑनलाइन Paise कमाने का तरीका क्या है और कैसे उस पर कम करें। लेकिन इसके लिए आपके पास नॉलेज होना चाहिए जिससे कि आप online पैसे कमा सकते हैं। या फिर आज के हिसाब से आपको अपनी नाॅलेज बडानी ही पढे तभी आप मालामाल बन सकते है।

ब्लॉगिंग से पैंसे कमाएं earn money from blogging
Google, blogging, you tube affiliate Program

अगर आपके अन्दर लिखने का हुनर है तो आप आज से ही blogger को अपनो प्रोफेशन बनाइए। इसके लिए आपको  Google या अन्य किसी सर्च इंजिन पर अपनी वेवसाइट बनाइए और अपना हुनर लोगों तक पहुंचाइए लेकिन इसके लिए आपको कडी मेहनत करने की जरूरत है। इसमें एकदम से पैंसे नहीं आते आपको कि उतार चढाव से गुजरना होगा। सबसे पहले आप अपने अंदर का हुनर तलाशिए आप किस क्षेत्र में अधिक जानकारी दे सकते है।Cooking हो चाहे technology हो या Business या फिर किसी अन्य field में जिसमें आप कम शब्दों में कस्टूमर को अधिक समझा सकते है।

आप हमेशा वही करें जो आपको अच्छा लगें क्योंकि आप उसे फिर बेहतर ढंग से करेंगे।  ब्लॉगिंग एक लाॅग प्रक्रिया है इस लिए इसमें हाॅसला और सब्र होना बहुत आवश्यक है। खुद को डिमोटिवेट नहीं होने देना है। और यह भी जरूरी नहीं की Google आपकी हर पोस्ट को रैंकिंग करें।

  ब्लॉगिंग पर पैंसे कमाने का माध्यम adsense ही है यानी जब आपकी वेबसाइट पर adds चलने शुरू होंगे तब add click के आपको पैसे मिलेंगे लेकिन उससे पहले आपको adsense के लिए अप्रुवल लेना होगा। Google आपको परमीशन देगा। कुल मिलाकर आप घर बैसे अच्छी इनकम रिडीम कर सकते है।

यूट्यूब से पैंसे कमाएं earn money from youtube
Google, blogging, you tube affiliate Program

Lokdaun से ऑनलाइन मार्केटिंग और यूट्यूब की भरमार लग गयी है। जिसे देखो you tube चैनल बनाकर अच्छा पैंसा कमा रहा है।you tube विश्व की 3 सबसे बडी website है। आज हर क्षेत्र में पढाई से लेकर allजानकारी लोग you tube पर ढूंढते है। You Tube बहुत आसान व सरल तरीका है पैसे कमाने का बस आपको एक क्षेत्र चुनना होगा जिसमें आप सबसे अच्छा प्रदर्शन कर सकते है। 

इसके लिए सबसे पहले आप you tube पर अपना चैनल क्रेट कीजिए बीडिओ अच्छी तरह थमनेल बनाकर व एडिटिंग करके अपलोड कीजिए। इसके लिए सबसे पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए  --

प्रेजेन्टेशन सूपर होना - अगर आप you tube चैनल बना रहे हो तो आपके बोलने की शैली ही आपको अच्छे मुकाम तक ले जा सकती है। अन्यथा चैनल तो कयी लोग बनाते चलता वही चैनल है जिसकी आवाज में दम होता है। 

ऐडसेन्स अप्रुवल - चैनल बनाने के बाद आपको पैसे कमाने के लिए काफी इन्तजार करना होगा। क्योंकि इसका दूसरा स्टेप है adsense या you tube चैनल पर ऐड लगाने की अनुमति लेना। you tube और adsense दोनो Google के ही प्रोडक्ट है। और youtuber का पैसे कमाने का माध्यम भी adsense  ही है। adsense approval के लिए आपको लगभग 1000 सब्स्क्राइबर होना आवश्यक है और साथ ही 4 लाख वाच टाइम होना भी अनिवार्य है तभी आपके चैनल पर ऐड लगते है और ऐड से ही आपकी इनकम बढती है।

एफिलेट मार्केटिंग से पैंसे कमाना make money from affiliate marketing

ऐफिलेट मार्केटिंग से भी आप अच्छा पैसा कमा सकते है। आप घर बैठे पार्ट टाइम वर्क कर सकते हैऔर अच्छा पैंसा कमा सकते है। इसके आपको Google साइट पर अच्छी सी websites बनाकरके किसी भी ऑनलाइन मार्केटिंग जैसे Amazon, filipkard, clickbank, shareasale, आदि ऐफिलेट programs के लिए भागीदारी लेनी होगी। 

इसके लिए सबसे पहले आपने प्रोडक्ट को शेयर करना है और किसी भी कम्पनी का लिंक उस साइट में देना है। जो भी लोग आपकी पोस्ट या वेबसाइट से कसी भी प्रोडक्ट को खरीदते है तो उसका कमीशन यानी कुछ प्रतिशत आपको मिल जाता है। यानी आप घर बैठे बडी से बडी कम्पनियों में भी हिस्सेदारी कर सकते हो लेकिन आपके अंदर हुनर होना चाहिए। 

ऐफिलेट प्रोग्राम को प्रमोट करने के रिए आपको कयी platform को चुनना होगा जैसे आप FacebookTwitter,  आदि कयी साइटों पर उसको प्रमोट करके अच्छा पैसा कमा सकते है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे 

Tuesday, 7 September 2021

Pitrdosh Nivaran in hindi पितृदोष दूर करने के आसान उपाय?इन 3 वृक्ष और 3 पशुओं को पूजने से दूर होगा पितृदोष।

Pitrdosh Nivaran in hindi पितृदोष दूर करने के आसान उपाय?इन 3 वृक्ष और 3 पशुओं को पूजने से दूर होगा पितृदोष।

 दोस्तों भारतीय परम्परा और सभ्यता का बोलबाला पूरे विश्व में हैं हम पत्थर को भी पूजते है और पेड-पौधों को भी क्योंकि हमारी आस्था और विश्वास इन सभी से जुडा होता है। बात करें अगर ज्योतिष की तो इसमें पितृदोष का बहुत महत्व है और आज से नहीं प्राचीन काल से पितृदोष सबसे बड़ा दोष माना गया है। यह तब होता है जब हम अपने पित्रों, पूर्वजों की शान्ति नहीं कर पाते।या हम उन्हें भूल जाते है।या हम उनको महत्व नहीं देते। तो  इससे व्यक्ति का जीवन अत्यंत कष्टमय और दरिद्रता पूर्ण हो जाता है। क्योंकि हमारे पित्र भी हम पर ही निर्भर है। जिसकी कुंडली में यह दोष होता है वह मानसिक शारीरिक,रोगों से पीड़ित रहता है। पितृदोष से पीड़ित जातक की उन्नति में बाधा रहती है। किस्मत के दरवाजे बंद सो जाते है। तो आज हम यह जानने का प्रयास करेंगे की कैसे पितृ दोष दूर हो? पितृ दो दूर करने के उपाय क्या है?हम आपको कुछ ऐसे आसान उपाय बताएंगे जिससे आपके पित्रों की शान्ति हो जाए।

Pitrdosh Nivaran in hindi पितृदोष दूर करने के आसान उपाय?इन 3 वृक्ष और 3 पशुओं को पूजने से दूर होगा पितृदोष।

पितृदोष एक अदृश्य बाधा है।अक्सर हम केवल श्राद्ध पक्ष में ही पित्रों को याद करते है बाकी भूल जाते है यह बाधा पितरों द्वारा रुष्ट होने के कारण होती है। लेकिन हम इसे या तो महत्व नहीं देते या बहुत बोझ मान लेते है।हमें इसका समाधान ढूंढना चाहिए।  पितरों के रुष्ट होने के बहुत से कारण हो सकते हैं, जैसे आपके आचरण से, किसी परिजन द्वारा की गई गलती से,श्राद्ध आदि कर्म न करने से,इच्छा पूर्ति न होने से,अंत्येष्टि न होने से,हत्या होने से, आत्महत्या करने से आदि में हुई बाधा के कारण हो सकते है।इन सभी समस्याओं के अंत का समाधान लेकर आए हैं।  आप इन उपायों को अपनाकर अपने पित्रों की शान्ति कर सकते है।

पितृदोष निवारण - तीन वृक्ष

पितृ दोष दूर करने में इन तीन वृक्षों की पूजा करने से शान्ति प्राप्त होगी।

1- बरगद वृक्ष - बरगद वृक्ष में साक्षात बिष्णु और शिव का वास माना जाता है। भारतीय परम्परा में यह वृक्ष अत्यंत पूजनीय है।बरगद के नीचे शिव की आराधना पूजार्चना एवं दीपदान करने से पित्रों की शान्ति मिलेगी।

2- पीपल वृक्ष - पीपल वृक्ष भी बड वृक्ष की तरह ही पवित्र और पावन माना जाता है।इस वृक्ष में बिष्णु का वास होता है और साथ में पित्रों का निवास भी इस वृक्ष में माना जाता है।पितृ पक्ष में इस वृक्ष के नीचे उपासना करने से पित्रों को शान्ति णिलती है।

3- बेलपत्र वृक्ष - इस वृक्ष में शिव का वास होता है। बेलपत्र का वृक्ष लगाने से भी पित्रों की शान्ति होती है। एकादशी और अमावस तिथि को इस वृक्ष पर जल चढाने से और पूजार्चना करने से पित्रों को मुक्ति मिलती है। 

पितृदोष निवारण - तीन पशु

पितृदोष निवारण के लिए इन तीन पशुओं का भी अहम योगदान है। 

1- कुत्ता - कुत्ते को साक्षात पित्रदेव ही माना जाता है,इसमें पित्रों का वास होता है। कुत्ते को वफादार भी माना जाता है। कुत्ते को भोजन देकर तथा कुत्ते को पालकर आप पितृ ऋण से मुक्ति पा सकते है। कुत्ते को कभी झाडू या लात नहीं मारना चाहिए इससे पित्र नाजाज होकर अनहोनी करते है।

2- कौवा - कौवे को भी पित्र ही माना जाता है यह हमारे घर का रक्षक भी होता है। इसको अथिति आगमन का सूचक और पित्रों का आश्रम स्थल भी माना जाता है। हमारी परम्परा के अनुसार श्राद्ध पक्ष में हम पित्रों के निमित्त कौवे का ग्रास भी निकालते है। कौवे को दाना या भोजन खिलाने से पित्रों को मुक्ति मिलती है। 

3- गरूड - यह भगवान बिष्णु का वाहन माना जाता है और इस पक्षी में भगवान बिष्णु की अपार श्रद्धा रहती है। इस पक्षी के नाम से गरूड पुराण विख्यात है। गरड पुराण सुनने और उसके अनुसार नियमों से पित्रों को मुक्ति मिलती है तथा गरूड की सेवा भाव से भी पित्रों की शान्ति होती है।

अन्य सम्बन्धित बेबदुनियां

👉 माणिक्य रत्न जो खोल दे भाग्य के द्वार 
👉 सुलेमानी हकीक स्टोन जो बना दें पल में मालामाल
👉 सर्वार्थ सिद्धी के लिए धारण करें हनुमान चालीसा यंत्र लाॅकेट 
👉 स्वास्थ्य की चाबी है मोती रत्न के पास मोती रत्न के लाभ
👉 मंगल ग्रह का मूंगा रत्न लाभ हानि और विधि से प्राप्त करें सुख समृद्धि 
👉 बुद्ध ग्रह के पन्ना रत्न के ढेरों लाभ
👉 सफलता की चाबी है गुरु रत्न पुखराज के पास 
👉 जानिए हीरा रत्न के गुण-दोष और लाभ हानि के बारे किसे मिलेगा फायदा
👉 सर्व शक्तिशाली और किस्मत चमकाने वाला भाग्य रत्न नीलम के फायदे